आयुर्वेद के माध्यम से व्यक्ति का जीवन सुखी व स्वस्थ्य होता है: डा. आशीष त्रिपाठी



➖ सप्तम आयुर्वेद दिवस पर विद्यालय की छात्र/छात्राओ को आयुर्वेद के लाभ से कराया गया अवगत
पनियरा (महराजगंज ) । आयुर्वेद ऋषि मुनियों के समय की चिकित्सा पद्धति है। इसको अपना कर व्यक्ति स्वस्थ्य जीवन जी सकता है। ये बातें स्थानीय पनियरा इंटर कालेज (मलान खाँ विद्यालय) पर मण्डलायुक्त के निर्देश पर सप्तम आयुर्वेद दिवस (23 अक्टूबर 2022) के अन्तर्गत चलाये जा रहे हर घर आयुर्वेद अभियान के तहत शनिवार को विद्यालय के समस्य छात्र/छात्राओं को सम्बोधित करते हुए प्रभारी चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेद चिकित्सालय बसडीला पनियरा के डा. आशीष त्रिपाठी ने कही।
उन्होंने कहा कि आयुर्वेद शब्द आयु तथा जीवन शब्द से मिलकर बना है। जहाँ पर आयु जीने की चर्चा परिचर्चा हो या ज्ञान दिया जाये वही आयुर्वेद है। आयुर्वेद मे व्यक्ति को ऋतुओं के हिसाब से संयमित जीवन व्यतीत करने , खान-पान में नियमों का पालन करने तथा समय से सोने व समय से उठने की बात बतायी जाती है। प्रतिदिन कम से कम 45 मिनट व्यायाम करना चाहिए। इसके महत्व को देखते हुए मण्डलायुक्त ने जिले व मण्डल स्तर पर कक्षा 9 से 12 तक के छात्र/ छात्राओं की आयुर्वेद के महत्व को देखते हुए भाषण प्रतियोगिता आयोजित करने का निर्देश जारी किया है।कार्यक्रम में विद्यालय के प्रधानाचार्य आफताब आलम खाँ ने बताया कि जिला विद्यालय निरीक्षक अशोक कुमार सिंह के निर्देश पर गणेश शंकर विद्यार्थी इंटर कालेज महराजगंज में 11 अक्टूबर को जनपद के कक्षा 9 से 12 तक पढ़ने वाले छात्र/छात्राओं की मेरे दैनिक जीवन मे आयुर्वेद की उपयोगिता विषय पर भाषण प्रतियोगिता होगी। भाषण का समय मात्र तीन मिनट एक छात्र को मिलेगा। जनपद स्तर पर चयनित प्रथम, द्वितीय, तृतीय व दो सांत्वना पुरस्कार के रूप में क्रमश: 5100, 2100, 1100 व 5-5 सौ रूपये मिलेगा। इस अवसर पर विद्यालय के प्रबंधक आफाक आलम उर्फ सैफ खाँ ने आगन्तुक डाक्टर त्रिपाठी के प्रति ज्ञानवर्धन के लिए आभार प्रकट किया। इस अवसर पर विद्यालय के अधिसंख्य शिक्षक व शिक्षिकाएं भी मौजूद रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *