अदाणी भी आ रहे बाबा गोरक्षनगरी, लगेगी सीमेंट फैक्टरी; इस इलाके की जमीन अफसरों को आई पसंद—–

गोरखपुर
गीडा सीईओ पवन अग्रवाल ने कहा कि अडानी समूह की ओर से सीमेंट फैक्टरी लगाने के लिए करीब 70 एकड़ जमीन की मांग की गई थी। दो-तीन जगहों पर जमीन इस समूह के अधिकारियों को दिखाई गई है। अगर कंपनी यहां निवेश करती है तो उन्हें हर स्तर पर सहयोग किया जाएगा।


बाबा गोरक्षनगरी में अब देश के प्रतिष्ठित अदाणी समूह ने सीमेंट की बड़ी फैक्टरी लगाने में रुचि दिखाई है। कंपनी के अधिकारियों को 70 एकड़ जमीन भी मिल गई है। यह जमीन प्रस्तावित सहजनवां-दोहरीघाट नई रेल लाइन से सटे बड़हलगंज के पास है।


पिछले दिनों गोरखपुर आए अधिकारियों ने रेट और आवागमन के हिसाब से जमीन को पसंद करने के बाद रिपोर्ट अपने मुख्यालय भेजी है। वहां से हरी झंडी मिलने के बाद जमीन को खरीदने की प्रक्रिया शुरू होगी। इस समूह के आने से भारी-भरकम निवेश होगा और बड़ी संख्या में यहां के लोगों को रोजगार मिलेगा।


गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे बनने के बाद धीरे-धीरे बड़े औद्योगिक घराने भी यहां निवेश में रुचि दिखा रहे हैं। बड़ी कंपनियों को यहां निवेश के लिए सुरक्षा के माहौल के साथ संसाधन भी उपलब्ध होगा। इन्वेस्टर्स समिट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई बड़े औद्योगिक घरानों को निवेश के लिए आमंत्रित किया था।

इसी क्रम में अदाणी समूह के अधिकारियों ने गीडा प्रबंधन से 60 से 70 एकड़ तक जमीन की मांग की थी। यह बताया गया था कि उनकी ओर से एक बड़ी फैक्टरी लगाने की योजना है। गीडा की ओर से पहले उन्हें औद्योगिक गलियारे में नरकटहा व भगवानपुर में और इसके बाद धुरियापार के पास जमीन दिखाई गई थी। लेकिन, किसानों द्वारा कीमत ज्यादा मांगने के चलते मामला खटाई में पड़ गया।
इसके बाद अधिकारियों को गोला से बड़हलगंज के रूट पर बड़हलगंज के करीब जमीनें दिखाई गईं। यह जमीन सहजनवां-दोहरीघाट के पास बनने वाले नई रेल लाइन के करीब है। जबकि सीमेंट फैक्टरी लगाने के लिए अधिकारियों को ऐसी ही जमीन चाहिए, जहां रेलवे की रैक साइडिंग के लिए भी एक किमी की जगह मिल जाए। इस लिहाज से भी जमीन पसंद आई है। निरीक्षण करने वाले अधिकारी अब अपनी रिपोर्ट तैयार कर समूह के मुख्यालय को भेजेंगे। इसके बाद कंपनी अपनी मुहर लगाएगी।

डीएम कृष्णा करुणेश ने कहा कि अदाणी समूह के अधिकारियों को बड़हलगंज-गोला रूट पर जमीन दिखाई गई है, जो उन्हें पसंद भी आई है। यहां जमीन की कीमत 25-30 लाख रुपये एकड़ है। इसके पहले धुरियापार में जमीन दिखाई गई थी। लेकिन वहां किसान 50 लाख रुपये एकड़ पर जमीन देना चाहते थे। दूसरे, रैक स्लाइडिंग की भी दिक्कत आ रही थी। अब अदाणी समूह को निर्णय लेना है। सीमेंट फैक्टरी में लगाने के लिए उन्हें पूरा सहयोग किया जाएगा।

गीडा सीईओ पवन अग्रवाल ने कहा कि अडानी समूह की ओर से सीमेंट फैक्टरी लगाने के लिए करीब 70 एकड़ जमीन की मांग की गई थी। दो-तीन जगहों पर जमीन इस समूह के अधिकारियों को दिखाई गई है। अगर कंपनी यहां निवेश करती है तो उन्हें हर स्तर पर सहयोग किया जाएगा


क्राइम मुखबिर
अपराध की तह तक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *