हवाई अड्डे पर हमले का मामला: अध्यागमन अधिकारी और पुलिस दोनों को कार्रवाई की सिफारिश की गई

भारत-नेपाल सीमा संवाददाता जीत बहादुर चौधरी की रिप‍ोर्ट

काठमाण्डौ,नेपाल – त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर अध्यागमन विभाग के कर्मचारियों और पुलिस के बीच हुई मारपीट के मामले का अध्ययन करने के लिए बनी कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है ।

गृह मंत्री नारायणकाजी श्रेष्ठ को सौंपी गई रिपोर्ट में आव्रजन अधिकारी छाया लाल मुक्तान को हवाई अड्डे से हटाने और विभागीय कार्रवाई करने की सिफारिश की गई है, जबकि उन्हें पीटने वाले असई संजय तमांग को भी निलंबित करने और विभागीय कार्रवाई करने की सिफारिश की गई है ।

समिति के एक सदस्य के अनुसार शुरुआत में जांच करने वाले पुलिस कांस्टेबल रविरंजन गुप्ता पर भी विभागीय कार्रवाई करने की अनुशंसा की गयी है ।

समिति के एक सदस्य के मुताबिक, घटना के क्लोज सर्किट (सीसी) कैमरे की फुटेज और उस समय आसपास मौजूद अन्य अधिकारियों के बयान लेने के बाद कार्रवाई की सिफारिश की गई है।

सदस्य के मुताबिक रिपोर्ट में उन बातों का भी जिक्र है जो भविष्य में ऐसे विवादों को रोकने के लिए की जानी चाहिए ।

पिछले सप्ताह शुक्रवार को दोपहर 12:05 बजे उस समय विवाद हो गया जब इमीग्रेशन अधिकारी चयनलाल मोक्तान एयरपोर्ट के आगमन से प्रस्थान की ओर जा रहे थे ।

मोक्तन ने बताया कि मेटल डिटेक्टर वाली जगह पर उसकी जांच के दौरान विवाद हो गया और इस दौरान उसकी पिटाई कर दी गयी ।

इसे समझने की कोशिश में मुख्य आव्रजन अधिकारी गोगन बहादुर हमाल से भी दुर्व्यवहार किया गया ।

इसकी जांच के लिए गृह मंत्रालय ने संयुक्त सचिव थानेश्वर गौतम के समन्वय में एक समिति का गठन किया, जिसमें नेपाल पुलिस के पुलिस उप महानिरीक्षक राजेशनाथ बस्तोला और सीमा एवं आव्रजन प्रशासन शाखा के उप सचिव कुल बहादुर जी सी शामिल थे ।

क्राइम मुखबिर
अपराध की तह तक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *