चीन की नाकाबंदी से आर्थिक संकट में नेपाली व्यापारी, आत्महत्या के लिए हो रहे मजबूर——–कोविड-19 महामारी का हवाला देते हुए बीजिंग ने नेपाल-चीन सीमा पर पारगमन बिंदुओं पर बीते दो वर्षों से अघोषित नाकाबंदी कर रखी है

*रिपोर्टर रतन गुप्ता सोनौली /नेपाल Fri, 16 Sep 2022*————————————–
कोविड-19 महामारी का हवाला देते हुए बीजिंग ने नेपाल-चीन सीमा पर पारगमन बिंदुओं पर बीते दो वर्षों से अघोषित नाकाबंदी कर रखी है।

इस वजह से नेपाली व्यापारी भीषण आर्थिक संकटों से गुजर रहे हैं और आत्महत्या के लिए मजबूर हो रहे हैं। चीन ने पिछले दो वर्षों से केवल कुछ कंटेनरों को ही नेपाल-चीन सीमा पर पारगमन बिंदुओं को पार करने की अनुमति दी गई है।

स्वेट बरहा एंटरप्राइजेज के मालिक सुदर्शन घिमिरे ने इसी साल छह सितंबर को आत्महत्या कर ली। नेपाल के बाजार में चीनी सामानों के आयात और आपूर्ति में शामिल युवा उद्यमी हरे राम पौडेल ने 13 अक्तूबर, 2020 को आत्महत्या कर ली थी।

उनका सामान नेपाल-चीन सीमा पर महीनों तक अटका रहा। उनके ऊपर भारी मात्रा में ऋण था। वे दोहरे जाल में फंसे हुए थे। एक ओर, वे एक वित्तीय संकट से गुजर रहे थे, दूसरी ओर बैंक और अन्य साहूकार अपना बकाया मांग रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *