पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री खान को गैर-इस्लामिक शादी करने के आरोप में 7 साल जेल की सजा सुनाई गई

भारत-नेपाल सीमा संवाददाता जीत बहादुर चौधरी की रिप‍ोर्ट

एक हफ्ते में यह उन्हें दी गई तीसरी सजा है।

काठमाण्डौ,नेपाल – पाकिस्तान की एक अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और उनकी पत्नी को यह कहते हुए सात साल जेल की सजा सुनाई है कि उनकी शादी गैर-इस्लामिक और अवैध थी।

अदालत ने फैसला सुनाया कि 2018 में बुशरा बीबी के साथ खान की शादी अवैध थी।
खान भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में हैं ।

71 वर्षीय खान ने कहा है कि उनके खिलाफ कई मामले राजनीति से प्रेरित हैं। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान से नेता बने खान ने 2022 में प्रधान मंत्री पद छोड़ दिया।

सत्ता के निशाने पर इमरान!

बीबी के पूर्व पति ने शिकायत दर्ज कराई, जिसमें कहा गया कि खान के साथ उनकी शादी धोखाधड़ी थी।
मुस्लिम पारिवारिक कानून के अनुसार, महिलाओं को अपने पति की मृत्यु या तलाक के बाद कुछ महीनों तक पुनर्विवाह करने से प्रतिबंधित किया जाता है।

कोर्ट ने फैसला सुनाया है कि तलाक के बाद बीबी ने दूसरी शादी की है ।

खान के प्रधान मंत्री चुने जाने से पहले इस जोड़े ने शादी कर ली थी। 40 वर्षीय बीबी खान की तीसरी पत्नी हैं।

खान को शनिवार की जेल की सजा एक सप्ताह से भी कम समय में तीसरी सजा है।

गोपनीय दस्तावेज़ लीक करने के आरोप में पिछले मंगलवार को उन्हें 10 साल जेल की सज़ा सुनाई गई थी ।

पिछले बुधवार को, उन्हें और उनकी पत्नी को सऊदी क्राउन प्रिंस से आभूषणों सहित कार्यालय में प्राप्त राज्य उपहारों को बेचने या रखने का दोषी पाए जाने पर 14 साल जेल की सजा सुनाई गई थी।

कोर्ट ने बुशरा बीबी को नजरबंद करने की इजाजत दे दी है ।

क्राइम मुखबिर
अपराध की तह तक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *