सोनौली बार्डर से भारत भागने के फिराक में मानव तस्कर भारत नेपाल बार्डर पर गिरफ्तार नेपाल से लड़कियों को अमेरिका बुलाकर यौन धंधे में लगाता था——————————————–

पुलिस उपाधीक्षक ज्ञान बहादुर बिस्ता ने कहा कि प्रारंभिक जांच में यह पता चला है कि गौतम द्वारा 300 से अधिक नेपालियों को अवैध रूप से अमेरिका में पहुंचाया गया है। जांच चल रही है कही यह भारत का रास्ता प्रयोग कर मानव तस्करी तो नहीं कर रहा था।
नेपाल पुलिस मानव तस्करी जांच ब्यूरो ने संगठित मानव तस्करी में सक्रिय मुख्य आरोपी नेपाली मूल के अमेरिकी नागरिक हस्त गौतम को रूपनदेही जिले के बेलहिया /सोनौली सीमा पर गिरफ्तार किया है। वह भारत में भागने के फिराक में था। आरोपी के ऊपर 300 से अधिक मामले दर्ज हैं।

आरोपी नेपाल, दुबई, सिंगापुर, फिलीपींस, थाईलैंड, श्रीलंका, कंबोडिया और लैटिन अमेरिका में मानव तस्करी के लिए एजेंट के माध्यम से मानव तस्करी करता था।

नेपाल पुलिस के मुताबिक, लंबे समय से वांछित सूची में शामिल नेपाली मूल का अमेरिकी नागरिक हस्त गौतम अमेरिका के टेक्सास शहर में रहकर नेपालियों को अमेरिका में अवैध प्रवेश दिलाने में सक्रिय था। वह दिव्यांग होने कारण व्हीलचेयर का उपयोग करता है।



नेपाली से ऐसे बन गया अमेरिकी नागरिका——

यह नेपाल पैरा ओलंपिक कमेटी का महासचिव था। जिसमें उसे अमेरिका जाने का मौका मिला। वहां से लौटने के नौ साल बाद वह ऑन अराइवल वीजा लेकर सिंगापुर पहुंचा। वहां से वह मैक्सिको से अमेरिकी देश बेलीज के रास्ते अवैध रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका में दाखिल हुआ और शरणार्थी आवेदन जमा करने के बाद अमेरिकी नागरिक बन गया।

उसके बाद, हस्त गौतम नेपाल में माओवादी सशस्त्र संघर्ष से प्रभावित रुकुम, रोल्पा और डांग शहर के लोगों को अवैध प्रवेश में सक्रिय रहा है।


मैक्सिको को अपना बेस एरिया बनाकर कर रहा था काम—

आरोपी हस्त गौतम नेपालियों को अमेरिका में ठहराने के लिए दुबई, थाईलैंड, फिलीपींस, जाम्बिया, सिंगापुर, हांगकांग और अन्य देशों में ले जाता था। शिकायत पर नेपाल पुलिस ने मानव तस्करी और संगठित अपराध के पांच मामले दर्ज किया। जांच के दायरे में आए कमल तमांग के मामले की जांच के दौरान जानकारी मिली कि गौतम मानव तस्करी का मुख्य योजनाकार था।

मैक्सिको को अपना बेस एरिया बनाकर वह नेपाल, दुबई, सिंगापुर, फिलीपींस, थाईलैंड, श्रीलंका, कंबोडिया और लैटिन अमेरिका में एजेंट तैनात कर अवैध मानव तस्करी का नेटवर्क चला रहा था। ब्यूरो में गौतम के खिलाफ पांच अलग-अलग मामले दर्ज है और छह पीड़ित है। गौतम ने विदेश में जिन दो लोगों को यह कहकर बंधक बना लिया था कि उन्हें अमेरिका ले जाएगा, उन्हें अभी तक बचाया नहीं जा सका है।


नेपाल पुलिस उपाधीक्षक ज्ञान बहादुर बिस्ता ने कहा कि प्रारंभिक जांच में यह पता चला है कि गौतम द्वारा 300 से अधिक नेपालियों को अवैध रूप से अमेरिका में पहुंचाया गया है। जांच चल रही है कही यह भारत का रास्ता प्रयोग कर मानव तस्करी तो नहीं कर रहा था। इसके और सहयोगियों की तलाश जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *