पुराने सीमा स्तंभों का रखरखाव एवं पेंटिंग

भारत-नेपाल सीमा संवाददाता जीत बहादुर चौधरी की रिप‍ोर्ट

काठमाण्डौ,नेपाल – पश्चिम नवलपरासी के सीमा स्तंभों पर रखरखाव और पेंटिंग का काम शुरू कर दिया गया है।

नेपाल-भारत दसगजा क्षेत्र में लंबे समय से सीमा स्तम्भों का रख-रखाव एवं पेंटिंग नहीं होने के कारण स्तम्भ पुराने एवं जर्जर हो गये हैं, जिसको लेकर सीमा स्तम्भों की पेंटिंग का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है।

उक्त स्तम्भों की पेंटिंग का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। नेपाल और भारत की सीमा सुरक्षा एजेंसियां।
पश्चिम नवलपरासी में भारत से जुड़े 16 स्तंभों को रंगा जाएगा।

सशस्त्र पुलिस बल नेपाल नं. 26 गण मुख्यालय गण प्रमुख (एसपी) धीरेंद्रराज न्यूपैनल ने कहा है ।

उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल द्वारा विषम संख्या वाले कॉलम का निर्माण किये जाने के समझौते के तहत मरम्मत और पेंटिंग का काम सोमवार से शुरू हो गया है ।

पश्चिम नवलपरासी में सुस्ता से पल्हीनंदन ग्रामीण नगर पालिका में जर्मी तक 41 किमी की सीमा है।

जिसमें सुस्ता से 14 कि.मी. यह क्षेत्र भारत के बिहार राज्य को छूता है।

एसपी न्यूपाने ने कहा, ‘अभी साढ़े 27 किमी. क्षेत्र में 13 मुख्य और 3 सहायक सहित 16 स्तंभों की मरम्मत और पेंटिंग का काम शुरू कर दिया गया है।

जिसमें हमने विषम संख्याओं के 7 कॉलम और विषम संख्याओं के 9 कॉलमों को रंगना शुरू कर दिया है।
नतीजतन, सुस्ता गांव में कोई सीमा स्तंभ नहीं हैं।

क्राइम मुखबिर
अपराध की तह तक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *