मानस पाठ से खुलता मोक्ष प्राप्ति का द्वार: मंशा पांडेय

कैचवर्ड -प्रवचन फोटो कैप्शन- गोपाला गांव में आयोजित श्री विष्णु महायज्ञ में प्रवचन करती मानस मर्मज्ञा मंशा पांडेय शिकारपुर, महराजगंज:रामचरित मानस पुरातन भारतीय संस्कृति के सनातन धर्म की एक पवित्र धार्मिक ग्रन्थ है।यह मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम एवं लंकापति रावण के जीवन की कहानी कहता है तथा निरंतर आगे बढ़ते हुए विजय प्राप्ति की प्रेरणा देता है।इसकी चौपाइयां मनुष्य को मुसीबतों से बाहर आने तथा मोक्ष के द्वार खोलने में मदद करती हैं । यह बातें गोपाला स्थित श्रीराम जानकी पंचायती मंदिर प्रांगण में आयोजित नौ दिवसीय श्री विष्णु महायज्ञ में रावत मंदिर अयोध्या धाम से पधारी सुश्री मंशा पांडेय “दीदी जी”ने रामचरित मानस की महत्ता विषय पर अमृत कथा का रसपान कराते हुए कही। उन्होंने कहा कि महर्षि वाल्मीकि द्वारा संस्कृत में रचित महाकाव्य रामायण का हिंदी अनुवाद कर गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस ग्रन्थ की रचना की। इसके पढ़ने से दरिद्रता का नाश व लक्ष्मी का वास तथा घर में निरंतर खुशियां भरी रहती है।संकटमोचन हनुमान जी सदैव विराजमान रहते हैं और राम जी की कृपा बनी रहती है। महायज्ञ में पंडित कृष्ण कुमार मिश्र के नेतृत्व में पधारी वैदिक विद्वानों की टोली 11 यजमानों के साथ जहां श्री हरि विष्णु के महामंत्रों की प्रतिदिन पूजन,अर्चन,हवन,तर्पण एवं जप साधना कर रही है वहीं पूर्वांचल की प्रसिद्ध रामलीला मंडल प्रतिदिन रामचरित मानस पर आधारित रामलीला का मंचन कर दर्शकों का मन मोह रही है।महायज्ञ के सफल क्रियान्वयन में यज्ञ व्यवस्थापक व ग्राम प्रधान अम्बरीष कुमार पटेल तथा मंदिर के महंत तुलसीदास जी महाराज सहित समस्त ग्रामवासियों का भरपूर सहयोग प्राप्त हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *