संभावित बाढ़ को लेकर तैयारियां पूर्ण करें अधिकारी :नगर आयुक्त

गोरखपुर। जिले में संभावित बाढ़ व बंधों के कटान आदि से बचाव एवं सुरक्षा के मद्देनजर जिलाधिकारी कैंप कार्यालय पर मंगलवार को नगर आयुक्त गौरव सिंह सोगरवाल की अध्यक्षता में बाढ़ स्टीयरिंग कमेटी की बैठक किया जनपद में बाढ़ के लिहाज से संवेदनशील नदियों राप्ती व सरजू के आसपास के इलाकों में संभावित बाढ़ से पूर्व की गयी तैयारियों की समीक्षा की
साथ ही बंधों, बाढ़ चौकियों, आश्रय स्थलों, बाढ़ के दौरान फैलने वाली संक्रामक बीमारियों आदि के बारे में संबंधित विभागीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। बैठक के दौरान अधिशाषी अधिकारी ड्रेनेज खंड ने संभावित बाढ़ से बचाव के मद्देनजर अब तक की तैयारियों के बारे में अवगत कराया। ने निर्माणाधीन परियोजनाओं, बंधों की मरम्मत आदि को गुणवत्ता सहित अविलंब पूर्ण किए जाने के निर्देश दिए। तहसीलों के एसडीएम को अपने-अपने तहसीलों में बाढ़ से बचाव के दृष्टिगत किए जा रहे प्रबंधों एवं आवश्यक व्यवस्थाओं का स्थलीय निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बाढ़ संभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर स्थानीय लोगों से किसी भी संभावित समस्या के बारे में पहले से ही जानकारी प्राप्त कर इसका निस्तारण सुनिश्चित करा लिया जाए शत प्रतिशत हैंडपंपों को क्रियाशील रखते हुए स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाए।उन्होंने बाढ़ के दौरान किसी भी संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए आवश्यक और जीवन रक्षक दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित रखने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिए।
बाढ़ से प्रभावित हो सकने वाले ग्रामीणों एवं उनके पशुओं को बाढ़ के दौरान व्यवस्थित किए जाने के लिए राहत कैंपों की स्थापना एवं संचालन से संबंधित बिंदुओं की समीक्षा की।
राहत कैंपों की स्थापना व संचालन के विषय में संबंधित एसडीएम को राहत शिविरों की स्थापना एवं संचालन से संबंधित सभी विभागीय अधिकारियों के साथ समन्वयता बनाए रखने का निर्देश दिया। कहा कि बाढ़ एक आकस्मिक आपदा है, इसलिए इसके दुष्प्रभाव से बचने के लिए पहले से ही सभी बिंदुओं पर सतर्क दृष्टि बनाई रखी जाए। उन्होंने राहत शिविरों में स्वच्छ पेयजल, विद्युत आपूर्ति, चिकित्सा की व्यवस्था, क्लोरीन की गोली की उपलब्धता आदि से संबंधित बिंदुओं पर संबंधित अधिकारी को निर्देशित किया। साथ ही प्रभावित पशुओं के लिए कैंप की व्यवस्था के साथ उसका उचित देखरेख, पशुओं के भूसा चारे की व्यवस्था आदि से संबंधित बिंदुओं पर जानकारी प्राप्त करते हुए मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया।एडीएम वित्त ने निर्देशित करते हुए कहा कि बाढ़ की स्थिति में विभिन्न प्रकार की संक्रमणों आदि की संभावना काफी बढ़ जाती है। इसलिए इससे बचाव के उपायों को पहले से ही सुनिश्चित कर लिया जाए तथा संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए आवश्यक और जीवन रक्षक दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। नगर निगम क्षेत्र में बरसात के मौसम में संभावित जल भराव से निपटने के लिए पहले से ही जल निकासी की व्यवस्था एवं नालों की साफ-सफाई दुरूस्त करने के निर्देश दिए।इस दौरान नगर आयुक्त गौरव सिंह सभरवाल एडीएम वित्त एवं राजस्व राजेश कुमार सिंह उप नगर आयुक्त संजय शुक्ला सदर तहसीलदार विकास कुमार सिंह ट्रेजन प्रखंड के संबंधित अधिकारी मौजूद रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *