नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा को सातवीं बार मिली जीत, कई बडे नेता चुनाव हारे

रिपोर्टर रतन गुप्ता सोनौली /नेपाल 23नवम्बर 2022

नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने संसदीय चुनाव में लगातार सातवीं बार जीत हासिल की है। उन्होंने सुदूर पश्चिमी नेपाल के डडेलधुरा निर्वाचन क्षेत्र से भारी मतों के अंतर से यह जीत दर्ज की है। 77 वर्षीय देउबा अपने पांच दशक के राजनीतिक करियर में कभी कोई संसदीय चुनाव नहीं हारे हैं। इस बार फिर उन्होंने जीत हासिल कर अपने पुराने रिकॉर्ड को कायम रखा है। इससे जनता के बीच उनकी लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

चुनाव परिणाम के अनुसार नेपाला कांग्रेस के नेता और मौजूदा प्रधानमंत्री देउबा को कुल 25,534 वोट मिले, जबकि उनके निकटम प्रतिद्वंद्वी एवं निर्दलीय उम्मीदवार सागर ढकाल (31) को 1,302 मत हासिल हुए। इस प्रकार देउबा ने बड़े अंतर से जीत हासिल की। वहीं देउबा को चुनौती देने वाले ढकाल एक युवा इंजीनियर हैं, जिनकी पांच साल पहले ‘बीबीसी’ (ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन) के ‘साझा सवाल’ कार्यक्रम में एक सार्वजनिक परिचर्चा के दौरान देउबा से मौखिक बहस हुई थी। इसके बाद उन्होंने यह कहते हुए देउबा को चुनौती देने का फैसला किया था कि अब युवाओं को राजनीति में आना चाहिए और देउबा जैसे वरिष्ठ लोगों को आराम करना चाहिए।

पांचवीं बार पीएम हैं देउबा

नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष देउबा अभी पांचवीं बार प्रधानमंत्री के पद पर काबिज हैं। सत्तारूढ़ नेपाली कांग्रेस ने अभी तक प्रतिनिधि सभा में 10 सीटें जीती हैं, जबकि वह 46 अन्य सीटों पर आगे चल रही है। के पी ओली की अगुवाई वाले मुख्य विपक्षी दल सीपीएन-यूएमएल (कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल-यूनिफाइड मार्क्ससिस्ट-लेनिनिस्ट) ने अभी तक तीन सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि 42 सीटों पर उसने बढ़त हासिल कर ली है। हिमालयी देश में प्रतिनिधि सभा और सात प्रांतों की विधानसभाओं के लिए गत रविवार को मतदान हुआ था। मतों की गिनती सोमवार को शुरू की गई। नेपाल में संघीय संसद की 275 सीटों और सात प्रांतीय विधानसभाओं की 550 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं। संघीय संसद के कुल 275 सदस्यों में से 165 का चयन प्रत्यक्ष मतदान के जरिये होगा, जबकि बाकी 110 को ‘आनुपातिक चुनाव प्रणाली’ के माध्यम से चुना जाएगा। इसी तरह, प्रांतीय विधानसभाओं के कुल 550 सदस्यों में से 330 का चयन प्रत्यक्ष, जबकि 220 का चयन आनुपातिक प्रणाली से होगा।

देउबा के भारत से हैं अच्छे रिश्ते
नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री शेरबहादुर देउबा के भारत से अच्छे रिश्ते हैं। नेपाल चुनावों में फिलहाल उनकी पार्टी नेपाली कांग्रेस बढ़त में चल रही है। अगर वह चुनाव जीतते हैं और फिर प्रधानमंत्री बनते हैं तो यह भारत के लिए भी अच्छा रहेगा। वहीं पूर्व पीएम केपी ओली की अगुवाई वाली कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल चुनाव में पीछे चल रही है। केपी ओली चीन के समर्थक हैं और वह चीन के ही इशारे पर काम करते हैं। केपी ओली ने पीएम रहते भारत के खिलाफ काफी जहर उगला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *