केन्द्र सरकार के 9 वर्ष पूर्ण होने पर विधायक ने जनकल्याणकारी योजनाओं को गिनाया

महराजगंज जनपद के पनियरा के लोकप्रिय विधायक के आवास पर प्रेस वार्ता हुआ जिसमे माननीय विधायक ज्ञानेंद सिंह जी ने मोदी सरकार के 9 वर्ष के निम्न कार्यों और उपलब्धियों का वर्णन क्रमश किया….
2004-2014 भारत के विकास यात्रा में ये 10 साल Lost Decade रहा है। 10 साल… देश ने कमजोर नेतृत्व का दंश झेला, रिमोट कंट्रोल वाली सरकार कैसे चलती थी, ये बात किसी से छिपी नहीं । सरकार और एक परिवार के चक्कर में देश के बेशकीमती 10 साल बर्बाद हो गए। इन 10 सालों में भारत को “fragile five” अर्थव्यवस्था कहा जाने लगा, कमर तोड़ महंगाई, विकास दर बेहद कम देश का आत्मविश्वास ही कमजोर पड़ चुका था। 10 साल में भारत की हालत क्या हो गई थी ये बात न दुनिया से छिपी थी, न देशवासियों से।

देश की 130 करोड़ जनता ने नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व पर भरोसा किया और इस भरोसे ने … 2014 से 2023 के 9 साल में ही देश में शांति, समृद्धि और विकास की स्पीड भी दिखाई और स्केल भी दिखाई।

भारत वो दिन नहीं भूला है, जब ये कहा जाता था कि हम तो दिल्ली से 1 रुपया भेजते हैं

लेकिन गरीबों तक सिर्फ 15 पैसे पहुंचते हैं और देश ये दिन भी नहीं भूलेगा कि आज दिल्ली से 100 रुपया चलता है तो गरीब के पास पूरा का पूरा 100 रुपया पहुंचता है।

प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में देश हर आपदा में देशवासियों के साथ खड़ा है, उनकी सेवा में दिन-रात जुटा है।

भारत ने वो दिन भी देखा है, जब पोलियो, टेटनस और बीसीजी जैसे टीकों को भारत आने में 50 से ज्यादा साल लग गए थे।

ड्रोन से वैक्सीन डिलिवरी दुर्गम इलाकों में भारत सरकार ने सुनिश्चित कराई।

मोदी सरकार ने रिकॉर्ड समय में लाखों लोगों का टीकाकरण करने का लगभग असंभव कार्य हासिल किया, और वह भी एक सदी में सबसे खराब ज्ञात वैश्विक महामारी के सामने ।

पहले भारत पश्चिम से दवाओं और टीकों के लिए निर्भर था, भारत ने दो स्वदेशी COVID-19 टीके विकसित किए और कई देशों को जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति की। स्वतंत्र भारत के इतिहास में इससे पहले गरीबों के लिए आवास निर्माण की ऐसी क्रांति नहीं देखी गई।

स्वतंत्र भारत में इससे पहले कभी भी महिलाओं ने घर के निर्णय लेने में इतनी सक्रिय भूमिका नहीं निभाई है।

घर-घर जल पहुँचने से कितने लाभ हुए, पहले जो बेटियां दूर पानी लाने जाती थी अब वो अपनी पढ़ाई को समय दे पा रही हैं क्योंकि अब उन्हें पानी लाने नहीं जाना पड़ता.

शौचालय के निर्माण से क्या हुआ?

महिलाओं के प्रति अपराध घटे, बीमारियों से दूरी बढ़ी और पर्यावरण को भी पहुँच रहा है लाभ अब महिलाओं की मूल जरूरत शौचालय उनके पास है, सामाजिक अपराध घटे

साल 2019 से पहले महज 3.23 करोड़ परिवारों तक टैप वाटर कनेक्शन था।

घर में काम जल्दी होने से अब महिलाओं के पास अपने लिए समय है 1121 लाख मीट्रिक टन अनाज गरीबों को निःशुल्क मिला.

साथ ही वन नेशन वन राशन कार्ड से हर महीने 3.5 करोड़ से ज्यादा परिवार लाभ उठा रहे हैं। गरीब परिवार में जन्मे मोदी जी ने गरीबों के कष्ट को समझा।

बीमारी और इलाज से होने वाली समस्याओं और उनके आर्थिक परिणामों से गरीब डरता था, त्रस्त था।

स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार लालकिले की प्राचीर से सैनिटरी पैड का जिक्र किया।

जीवन रक्षक दवाएं अब सस्ती दरों पर उपलब्ध हैं, कुछ दवाएं लगभग 50% 80% सस्ती हैं

जब दुनिया भर में फर्टिलिसेर कीमतें बढ़ रही थीं तब भी मोदी सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि किसान प्रभावित न हो। सरकार ने उठाया बोझ, सरकार ने डीएपी फर्टिलिसेर में सब्सिडी में 140% और कुल मिलाकर Rs. 2000 करोड़ सब्सिडी बढाई अब 11.4 करोड़ किसान सम्मान राशि पा रहे हैं.

फसल बीमा के अंतर्गत 1.4 लाख करोड़ रुपये के क्लेम किसानों को मिले हैं,

माइक्रो इरीगेशन और सूक्ष्म सिंचाई से करोड़ों किसानों की पैदावार बढ़ी है, वो कृषि में नई तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं। किसानों की मौसम पर निर्भरता कम हुई है।

समाज के हर अंग को हर वर्ग को अपना हक अपना सम्मान मिलता रहे इसके लिये हमारी सरकार प्रतिबद्ध है.

महिलाओं को सशक्त करने कई पुराने कानूनों में अभूतपूर्व सुधार किया गया

हर क्षेत्र में महिलाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है. बिना भेदभाव देश को आगे बढ़ाने की हमारी नीति के कारण आर्थिक रूप से | वंचित वर्ग को आरक्षण दिया गया ताकि प्रगति में वो भी सहभागी हो सकें.

पिछड़े वर्ग के अधिकारों को अधिक दृढ़ता प्रदान की गयी मोदी सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि पिछड़े वर्ग को उनके सपनों को | साकार करने के लिए हर संभव मदद व सहयोग मिले। दिव्यांग जनों के लिये भी अवसरों का नया आकाश खोला गया है. क्या आपने कभी सोचा है? वही देश है, वही तंत्र है, वही संसाधन हैं लेकिन ये सब शानदार परिणाम दे रहे हैं.

ऐसा क्या था की 6 दशक में जो नहीं हो पाया वो 9 साल में हो गया? इसके पीछे है नरेन्द्र मोदी जी का निर्णायक और दूरदर्शी व्यक्तित्व.

उड़ान जैसी सुविधाओं के कारण देश में पर्यटन और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल रहा है..

छोटे-छोटे शहरों तक हवाईयात्रा की सुविधा का विस्तार क्षेत्रीय विकास और देश को जोड़ने की मुहिम में महत्वपूर्ण कदम है. | 2014 तक 12 किमी प्रति दिन की रफ़्तार से बनते हाईवे आज लगभग 40 किमी प्रतिदिन तक पहुँच गए हैं.

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत भी सड़कें 9 साल में 2 गुनी से अधिक बन गयी हैं.

6 दशकों में कभी किसी ने देश में प्रचुर नदियों एवं अन्य संसाधनों पर जलमार्ग बनाने के विषय में कभी सोचा ही नहीं।

अमेरिका और अन्य विकसित देशों से तुलना में, वंदे भारत लोगों के लिए सुलभ मूल्य पर उपलब्ध होती हैं. यह विश्व के लिए किसी क्रांति से कम नहीं,आज बहुत देश इस टेक्नोलॉजी को अपने देश में उपयोग कर ने की बात कर रहे है

भारत में वर्तमान में दुनिया में पांचवा सबसे बड़ा मेट्रो नेटवर्क है, जल्द ही जापान और दक्षिण कोरिया को पीछे छोड़ देगा। यदि ये समय रहते सामने आ गए होते, तो COVID-19 महामारी का प्रभाव बहुत अधिक नहीं होता;

पीएम मोदी की सरकार साइलो में काम नहीं करती है भविष्य के स्वास्थ्य संकटों के लिए तैयारियों को सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में निवेश पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है। शिक्षा बजट 3 गुना तक बढ़ा.

722 जिलों में 10 हजार अटल tinkering लैब बने पर्यावरण पर कम से कम प्रभाव छोड़ने वाला यह नया अविष्कार खेती के क्षेत्र में एक क्रांति है जिससे किसान को लाभ होगा और आने वाली पीढ़ी के लिये एक हरी भरी दुनिया तैयार होगी, 28 यूरिया से भरा बैग अब एक छोटी बोतल में उपलब्ध है।

जब ये कहा जाता है कि पूर्व की सरकारों ने अटकाना, लटकाना, भटकाना को अपनी कार्यशैली बना रखा था, तो उसका जीता जागता उदाहरण ऐसे कई अनगिनत प्रोजेक्ट्स हैं।

जो सालों से वोटबैंक पॉलिटिक्स, चुनाव दर चुनाव अटकते और लटकते चले गए। एक आम भारतीय को हमेशा शानदार इंफ्रास्ट्रक्चर का आनंद लेने या लाभ उठाने का मौका मिलने की आशा रहती थी लेकिन उनकी इस आशा को विश्वास में बदला मोदी सरकार ने भोपाल का रानी कमलापति स्टेशन, गांधीनगर स्टेशन और मुंबई के सीएसएमटी में परिवर्तन इसके कुछ शानदार उदाहरण हैं।

ये सिर्फ रेलवे स्टेशन ही नहीं, इनमें से कई कनेक्टिविटी के नए केंद्र हैं जैसे अहमदाबाद के साबरमती स्टेशन को मल्टी मॉडल हब के रूप में विकसित किया जा रहा है जहां रेलवे ट्रेन, मेट्रो और आने वाली अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन है।

गांधीनगर स्टेशन के ऊपर एक पांच सितारा होटल भी है। जो देश के जन-जन को भव्य इंफ्रास्ट्रक्चर से जोड़ रहा है.

आज भारतीय इंजीनियरिंग असंभव को संभव कर रही है और दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे ब्रिज इसका जीता जागता उदाहरण है। इसने मेक इन इंडिया को एक नई परिभाषा दी है।

विपक्ष ने कहा कि यह फिजूलखर्ची होगी, आज स्टैच्यू ऑफ यूनिटी एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है और इससे केवडिया और उसके आसपास विकास हुआ है। हर मौसम में चलने वाली अटल सुरंग ने भारत की सेना की आसान और तेज

आवाजाही सुनिश्चित करके भारत की सुरक्षा को भी बढ़ाया है भविष्य के इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए एक मेगा पुरा ।

मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी के लिए 100 लाख करोड़ रुपये का मास्टरप्लान.

इसके अंतर्गत एक साथ योजना बनाने और उसे पूरा करने के उद्देश्य के साथ जुड़े 16 मंत्रालय ताकि बेहतर होती रहे इंफ्रास्ट्रक्चर कनेक्टिविटी ।

जनधन खातों में 1.90 लाख करोड़ रूपये जमा हुए हैं
4.7 करोड़ डुप्लीकेट और फेक राशन कार्ड निरस्त हुए 4.14 करोड डुप्लीकेट एलपीजी कनेक्शन हटे जिससे देश को 2.73 लाख करोड़ रुपये की बचत हुई है।

दुनिया के टोटल डिजिटल पेमेंट का 40% ट्रांजैक्शन भारत में हो रहा है।
देश ने वो दिन भी देखा तब टेकनोलॉजी को लाने में घोटाले हुए 80 के दशक में डिजिटल क्रांति में भागीदार न बन पाने वाला भारत आज के दौर में डिजिटल क्रांति का नेतृत्व कर रहा है.

मोदी सरकार के 9 सालों में टेक्नोलॉजी के प्रयोग से ग़रीब का जीवन सुधरा और सरकार के कामकाज में सुलभता आई.

डिजिटल इंडिया को प्राथमिकता बनाकर जहाँ हाई स्पीड इंटरनेट से गाँवों को भी जोड़ा गया, वहीं जन-जन तक सरकार की ऑनलाइन सुविधायें पहुंचाकर बिचौलियों की दुकान गिराई और सभी को तेजी से और बिना किसी भेदभाव के लाभ पहुँचाया गया. कौशल विकास, स्किल इंडिया, PLI, स्टैंड अप इंडिया जैसी योजनाओं के साथ | मोदी जी के नेतृत्व में देश में उद्यम एवं उद्योग को प्रोत्साहन देता एक नया इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया.

देश में बढ़ते टैलेंट को दिशा देने के लिये मुद्रायोजना से स्वनिधि तक हर दिशा में सहायता उपलब्ध कराई गयी.

मेक इन इंडिया ने आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार किया और आज हम सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था हैं

भारत इस समय दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि अगर भारत इसी तरह बढ़ता रहा, तो यह 2047 तक 40 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत की स्वतंत्रता का शताब्दी वर्ष 30,000 से अधिक नियमों को हटाया और आईटी सेक्टर और मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा दिया.

भारत 2022 तक 108 यूनिकॉर्न स्टार्टअप के साथ दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ने वाला स्टार्टअप इकोसिस्टम बन रहा है। 315 नये स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर मोदी सरकार के कार्यकाल में बने

भारत में 2030 तक सर्वाधिक युवा आबादी होगी, ऐसे में टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के साथ विश्वस्तर का ज्ञान, रोजगार के बढ़ते अवसर और शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण प्रदान करने के लिये मोदी जी संकल्पना की नई शिक्षा नीति की.

सरल, सहज और विद्यार्थी की रुचियों के अनुरूप बनाई गयी यह शिक्षा नीति कौशल विकास और व्यक्तित्व के विकास पर निर्भर है जो व्यावहारिक ज्ञान के | स्थान पर विद्यार्थियों की दक्षता बढ़ायेगी.

231 से ज्यादा चोरी हो गयी प्राचीन मूर्तियों और धरोहरें भारत वापस लायी गयी है.

31 राज्यों में 500 से अधिक स्थानों को जोड़ने के लिए थीम बेस्ड सर्किट्स का निमाण हो रहा है।

Title Slide और अब Title Slide राम मंदिर विकास का सूरज पूर्वोत्तर में उगाया लुक ईस्ट ही नहीं एक्ट ईस्ट भी 146 किमी लम्बी 121 सुरंगे निर्माणाधीन किसी समय कहा जाता था की पूर्व उत्तर दिल्ली से बहुत दूर है, आज मोदी जी उससे अस्थालक्षमी माना है

35 लाख किसान उपयोग कर रहे हैं सोलर आधारित कृषि उपकरणों का 15 लाख ग्रिड के माध्यम से खेती से जुड़े

अफोर्डेबल उजाला घर-घर में LED बल्ब की कीमत 90% तक घटी

ग्रीन इकोनॉमी लीडर दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के लिए भी ग्रीन कवर में रिकॉर्ड वृद्धि का गवाह बनना, जानवरों की संख्या में वृद्धि एक हरित दुनिया के प्रति भारत की प्रतिबद्धता का प्रमाण है। राष्ट्रिय सुरक्षा सर्वोपरि
‘भारत पहले’ भारत की सुरक्षा और सुरक्षा के प्रति मोदी सरकार की प्रतिबद्धता को उपयुक्त रूप से अभिव्यक्त करता है। पीएम मोदी ने ‘आतंकवाद’ को परिभाषित करने के लिए दुनिया को लामबंद किया है, जो भारत के खतरे का सामना करने के बाद से चार दशकों से गायब है।

आज, भारत अपनी सुरक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकता है भारत के लिए एलओसी पार करने और आतंकी संगठनों पर पूर्व खाली हमले करने वाला पहला । स्टेट ऑफ़ दी आर्ट इक्विपमेंट जैसे M777 howitzers, Apache helicopters, T-90 tanks, INS Vikrant, Scorpene submarines, P-81 maritime patrol aircraft, Rafale fighter jets, Chinook helicopters, | and S-400 air defense system मोदी सरकार ने जमीन, समुद्र और हवा पर देश की संप्रभुता की रक्षा करने और अपने नागरिकों की सुरक्षा और सुरक्षा | सुनिश्चित करने के लिए भारत की सेना, नौसेना और वायु सेना का आधुनिकीकरण किया है।

भारत की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण नए पुलों और सड़कों का रिकॉर्ड निर्माण:

ऊंचाई वाले क्षेत्रों के लिए सभी मौसम में सड़कें सैनिकों की गतिशीलता में वृद्धि करती हैं।

जब अंतरराष्ट्रीय सीमायें बंद थीं, जब दूसरे देश अपने ही नागरिकों को वापस नहीं लौटने दे रहे थे ऐसे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पूरे विश्व से इतनी बड़ी जनसँख्या को वापस अपने देश लाये ये बहुत बड़ी बात है. | भारत ने 1 दिसंबर 2022 से इंडोनेशिया से G20 की अध्यक्षता ग्रहण की और 2023 में देश में पहली बार G20 नेताओं के शिखर सम्मेलन का आयोजन करेगा।

G20 दुनिया की सबसे बड़ी 20 अर्थव्यवस्थाओं का समूह है जो वैश्विक | अर्थव्यवस्था से संबंधित प्रमुख मुद्दों, जैसे अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय स्थिरता, जलवायु परिवर्तन शमन और सतत विकास को संबोधित करने के लिए काम करता है।

लोकतंत्र और बहुपक्षवाद के लिए गहराई से प्रतिबद्ध राष्ट्र, भारत की जी20 अध्यक्षता उसके इतिहास में एक ऐतिहासिक क्षण होगा क्योंकि यह सभी की | भलाई के लिए व्यावहारिक वैश्विक समाधान ढूंढकर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाना चाहता है, और ऐसा करने में, की सच्ची भावना प्रकट करता है। वसुधैव कुटुम्बकम’ या ‘विश्व एक परिवार है। वैश्विक प्रशंसा क्या हासिल करती है?

यह भारत की छवि को स्थापित करता है और व्यापार के लिए दोस्तों और निवेश को आकर्षित करता है। व्यापार का अर्थ है निर्यात में वृद्धि, जिसका अर्थ है रोजगार के अवसरों में वृद्धि। इससे लाखों लोगों का जीवन बेहतर होता है।
दुनिया भारत में विश्वास करती है और विश्व को भारत पर भरोसा है और भारत को नरेंद्र मोदी पर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *