नेपाल प्लेन क्रैश में मारे गए युवकों के परिजनों से मिले ओपी राजभर और मन्नु अंसारी, प्रशासन से किया मुआवजे का ऐलान

रिपोर्टर रतन गुप्ता सोनौली16जनवरी 2023
नेपाल प्लेन क्रैश में मारे गए युवकों के परिजनों से मुलाकात करने राजनीतिक दलों के नुमाइंदे पहुंचे। ओम प्रकाश राजभर और मन्नु अंसारी ने मृतकों के परिजनों से मुलाकात कर हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। मृतकों के शव को लाने के लिए टीम नेपाल भेजी गई है।

गाजीपुर के चार युवाओं की नेपाल प्लेन क्रैश में हुई है मौत———————— –
युवाओं के परिजनों से मुलाकात करने पहुंचे ओपी राजभर——————–
प्रशासन ने ग्रामीणों की टीम को भेजा नेपाल, लाएंगे मृतकों का शव——————————–

नेपाल विमान हादसे में गाजीपुर के चार युवाओं की मौत हो गई। वे पोखरा घूमने गए थे। विमान हादसे में युवाओं की मौत के बाद अब गाजीपुर में मृतकों के परिजनों से मुलाकाती पहुंचने लगे हैं। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने प्रभावित परिवारों के साथ मुलाकात की। वहीं, हादसे का शिकार हुए युवाओं के परिवार से मुलाकात करने समाजवादी पार्टी विधायक मन्नु अंसारी भी पहुंचे। दोनों नेताओं ने युवाओं के परिजनों को हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है। हादसे में मारे गए चारों युवाओं के परिवार में गम और मातम का माहौल व्याप्त है।
जहूराबाद विधायक ओपी राजभर और मुहम्मदाबाद से सपा विधायक सुहेब अंसारी ने पीड़ित परिवारों से मिलकर शोक व्यक्त करने के साथ ही हर तरह का मदद दिलाने का भरोसा दिया है। रविवार की शाम हादसे में मृत युवकों के परिजनों को उनकी मौत की सूचना मिली। इसके बाद सभी के घर मे कोहराम मच गया। विमान हादसे में अलावलपुर इलाके के चक जैनब गांव के 28 वर्षीय सोनू जायसवाल की मौत हुई है। इसी हादसे का शिकार हुए अनिल राजभर और विशाल शर्मा अलावलपुर अफगा के रहने वाले थे। वहीं, अभिषेक कुशवाहा धरवा गांव के निवासी थे। ये चारों युवक 12 जनवरी को घूमने के लिए वाराणसी से नेपाल की राजधानी काठमांडू गए थे। हादसे वाले दिन ये सभी काठमांडू से नेपाल के सुप्रसिद्ध टूरिस्ट स्थान पोखरा के लिए विमान में सवार हुए थे। लेकिन, प्लेन क्रेश होने से हादसे में सभी की जान चली गयी।
लोगों ने किया धरना-प्रदर्शन
हादसे में मरने वाले अनिल राजभर और अभिषेक कुशवाहा अलग अलग जनसेवा केंद्र का संचालन कर अपने परिवार का भरण पोषण करते थे। वहीं, विशाल शर्मा एक बाइक एजेंसी में फाइनेंस का काम देखते थे। इसी तरह सोनू जायसवाल शराब की दुकान के संचालक थे। मृतकों की डेड बॉडी लाने को लेकर स्थानीय लोगों में गुस्सा देखने को मिला। सोमवार को बड़ी संख्या में लोग धरने पर बैठकर प्रदर्शन करने लगे। इन लोगों की मांग है कि मृतक के परिवार को उचित मुआवजा दिया जाए। साथ ही, उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाए। शव लाने के लिए नेपाल जाने की व्यवस्था भी जिला प्रशासन की ओर से किया जाए।
प्रदर्शन की जानकारी होते ही एसडीएम कासिमाबाद और पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। लोगों को समझाने का प्रयास किया गया। अंत में सभी मृतक परिवार के परिजनों को जिला प्रशासन के साथ नेपाल की सीमा तक जाने की व्यवस्था की गई है। एसडीएम वीर बहादुर सिंह ने बताया कि लोगों से बातचीत कर उन्हें समझा दिया गया है। लोगों की बातों को संज्ञान में लेते हुए आगे की कार्रवाई की जा रही है।

राजभर ने दिलाया भरोसा
सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और जहूराबाद विधानसभा क्षेत्र से विधायक ओम प्रकाश राजभर पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवार को हरसंभव मदद दिलाने का भरोसा दिया। राजभर के कहा कि अभी पहली प्राथमिकता डेड बॉडी को नेपाल से लाकर हिंदू रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार करना है। प्रशासनिक स्तर पर पर भी इस बात की कोशिश की जा रही है। औपचारिकताओं को पूरा करते हुए जल्द से जल्द डेड बॉडी को परिजन को सौंप दिया जाए, इसका प्रयास किया जा रहा है।
ओम प्रकाश राजभर ने मीडिया की ओर से पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि जिस तरह से यह प्लेन क्रैश का हादसा हुआ है, बिना डीएनए टेस्ट के डेड बॉडी की पहचान करना संभव नहीं है। शव के आने में अभी वक्त लग सकता है। वहीं, मुहम्मदाबाद विधानसभा क्षेत्र के वर्तमान विधायक सुहेब अंसारी मन्नु ने भी पीड़ित परिवार से मिलकर शोक संवेदना जाहिर की। इसके साथ ही मन्नु अंसारी ने भी अपनी ओर से हरसंभव मदद किए जाने का भरोसा पीड़ित परिवार को दिया।
डीएम ने कार्रवाई की दी जानकारी

डीएम आर्यका अखौरी ने मृत युवकों को लेकर प्रशासनिक कार्रवाई की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मृत चारों व्यक्तियों की शिनाख्त के लिए उनके परिवारों से एक-एक व्यक्ति और ग्राम प्रधान समेत कुल 8 से 9 लोगों को नेपाल रवाना किया गया है। प्रशासन की ओर से दो चार पहिया वाहनों की व्यवस्था की गई है। प्रशासन की ओर से बॉर्डर परमिशन के लिए दो कर्मचारियों को साथ में भेजा गया है। ये लोग 17 जनवरी को काठमांडू पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि पार्थिव शरीर की शिनाख्त के बाद जिले में लाए जाने में दो से तीन दिनों का समय लग सकता है।
डीएम ने कहा कि भारतीय दूतावास काठमांडू में संबद्ध काउंसलर दिवाकर शर्मा से लगातार हमारी वार्ता हो रही है। पार्थिव शरीर को पोखरा से काठमांडू लाया जाएगा। वहां परिजनों की उपस्थिति में शिनाख्त कराई जाएगी। जरूरत पड़ने पर मृतक मृतकों के परिजनों से डीएनए मैच कराकर पुष्ट की जाएगा। डीएम ने कहा कि मुआवजे के लिए तहसीलदार को निर्देशित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *