बांसबारी भूमि मामला: जांच में राष्ट्रपति कार्यालय का हस्तक्षेप, सलाहकार थापा ने सीआईबी से किया संपर्क

भारत-नेपाल सीमा संवाददाता जीत बहादुर चौधरी की रिप‍ोर्ट

काठमाण्डौ,नेपाल – बांसबारी में चमड़ा जूता फैक्ट्री की जमीन की हेराफेरी के मामले में व्यवसायी अरुण चौधरी और अजीतनारायण सिंह थापा की गिरफ्तारी के बाद राष्ट्रपति रामचन्द्र पौडेल के राजनीतिक सलाहकार पुलिस की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीआइबी) के पास पहुंच गये हैं ।

चौधरी और अन्य की गिरफ्तारी के तुरंत बाद, राष्ट्रपति के सलाहकार सुनील थापा गुरुवार दोपहर लाजिम्पाट में सीआईबी कार्यालय पहुंचे।

राष्ट्रपति के सलाहकार थापा द्वारा जांच को प्रभावित करने की बात सामने आने पर सीआईबी अधिकारियों ने इसे अप्राकृतिक माना है ।

दोपहर करीब साढ़े तीन बजे पहुंचे थापा सीआईबी प्रमुख किरण बजराचार्य के कार्यालय में करीब आधे घंटे तक बैठे रहे।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “राष्ट्रपति के सलाहकार का किसी गंभीर मामले में गिरफ्तार व्यक्ति का बचाव करने के लिए आना स्वाभाविक नहीं है।”

सूत्रों ने बताया कि थापा को गिरफ्तार अजीतनारायण सिंह थापा में काफी दिलचस्पी है ।

राष्ट्रपति के राजनीतिक सलाहकार के रूप में सुनील थापा की नियुक्ति भी विवाद का कारण बनी।

सुनील पूर्वपंच के नेता और आरपीपी के संस्थापक सूर्य बहादुर थापा के बेटे हैं।

जिस समय सूर्य बहादुर थापा प्रधान मंत्री थे, चौधरी समूह ने राज्य मशीनरी को प्रभावित करके अप्राकृतिक लाभ उठाया।

क्राइम मुखबिर
अपराध की तह तक !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *