बाजार पर चढ़ा करवा चौथ का रंग, लहंगा की मुरीद हुईं सुहागिनें

रिपोर्टर रतन गुप्ता महराजगंज Wed, 12 Oct 2022

बाजार पर करवाचौथ का रंग चढ़ गया है। 13 अक्तूबर को करवा चौथ पारंपरिक रीति रिवाज के साथ सिद्धि योग में मनाया जाएगा। कपड़ा बाजार से लेकर साज-शृंगार के कारोबारी इन दिनों बेहतर व्यापार की उम्मीद लगा रहे हैं। वहीं, सुहागिनें इस त्योहार पर मनपसंद कढ़ाईदार साड़ी के साथ-साथ लहंगा-लांचा खूब पसंद कर रही हैं।
करवाचौथ पर शृंगार का विशेष महत्व है। इस त्योहार के मद्देनजर बाजार में साड़ियों की काफी रेंज मंगवाई गई हैं। सात सौ रुपये से लेकर तीन हजार रुपये तक की साड़ियां विक्री के लिए दुकानों पर उपलब्ध हैं। बाजार से सामग्री की खरीदारी भी शुरू कर दी गई है। तरह-तरह की चूड़ियां, कपड़े, शृंगार एवं पूजा के सामान से बाजार सज गए हैं। करवाचौथ को खास बनाने में महिलाएं जुट गई हैं। बाजार भी इन दिनों दुल्हन की तरह सज गया है।

ज्वैलरी, चूड़ी और कपड़ों की दुकानों और ब्यूटी पार्लर पर महिलाओं की भीड़ है। कपड़ा व्यवसायी महेंद्र अग्रवाल ने बताया कि करवा चौथ के मद्देनजर सबसे ज्यादा लाल पीली साड़ियों की बिक्री हो रही है। संदीप रौनियार ने बताया कि सूरत, गुजरात, जयपुर, कोलकाता, बनारस चुनरी, साड़ियों की मांग ज्यादा बढ़ी है। कपड़ा व्यवसायी प्रताप मदेशिया , निरंजन अग्रवाल, रुपेश अग्रवाल ने बताया कि इस बार कारोबार अच्छा होने की उम्मीद है। सोनौली कस्बे की रहने वाली कुसुम मद्देशिया ने बताया कि करवा चौथ को देखते हुए तैयारी की जा रही है। अंशु अग्रवाल, अर्चना, रिंकी ने बताया कि बाजार में जरूरी सामानों की जरूरी की जा रही है।
स्वर्णकारों ने भी फैशन को दी वरीयता
महिलाओं की पसंद और चलन को देखते हुए स्वर्णकारों ने भी फैशन को वरीयता दी है। बाजार में पायल एवं बिच्छू, डिजाइनर चेन, डिजाइनर अंगूठी महिलाओं की खासी पसंद बने हुए हैं। सुहागिनों के लिए बेहद खास इस त्योहार की तैयारियों से शहर के बाजारों में खासी रौनक बनी हुई है।
करवा चौथ पर मुफ्त में मेहंदी लगाने की व्यवस्था
करवाचौथ को लेकर एडवांस बुकिंग शुरू हो गई है। मेहंदी लगवाने, हेयर कटिंग, अन्य शृंगार करने, सजने-संवरने के लिए ब्यूटीशियन की बुकिंग की जा रही है। ब्यूटीशियन जाह्न्वी ने बताया कि हाथ एवं पैर में मेहंदी लगाने के अलग-अलग दाम तय किए गए हैं। सजाने की कीमत ज्यादा है। उन्होंने बताया कि करवा चौथ पर मुफ्त में मेहंदी लगाने की व्यवस्था है। फेश वॉश, ब्लीच करवाने के लिए अभी से ही महिलाएं पहुंच रही हैं। उन्होंने बताया कि महिलाओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए खरीदारी करने पर डिस्काउंट और तरह-तरह के ऑफर दिए जा रह
करवा चौथ का त्योहार हर साल कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। मां पीतांबरा जनकल्याण ज्योतिष केंद्र के ज्योतिषी आचार्य दिवाकर मणि त्रिपाठी ने बताया कि हृषीकेश पंचांग के अनुसार इस बार करवा चौथ का व्रत 13 अक्तूबर को मनाया जाएगा। करवा चौथ का दिन और संकष्टी गणेश चतुर्थी, जो कि भगवान गणेश के लिए उपवास करने का दिन होता है, एक ही दिन आता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। विवाहित महिलाएं भगवान शिव, माता पार्वती और कार्तिकेय के साथ-साथ भगवान गणेश की पूजा करती हैं। करवा चौथ का व्रत कठिन होता है और इसे अन्न और जल ग्रहण किए बिना ही सूर्योदय से रात में चंद्रमा के दर्शन तक किया जाता है। इस बार करवा चौथ का व्रत 13 अक्तूबर को मनाया जाएगा। करवा चौथ के दिन पूजा की थाली का भी बहुत महत्व माना जाता है। एक थाली में पूजा की सामग्री रखकर एक दीपक जला कर चंद्रमा को दिखाया जाता है और शिव परिवार का विधिपूर्वक पूजन किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *