केन्द्रयी मंत्री पंकज चौधरी ने रेल मार्ग से नहीं जुड़ सके जिला मुख्यालय को जनता पूछ रही है 23 मे होगा


रिपोर्टर रतन गुप्ता महराजगंज Sat, 31 Dec 2022

महराजगंज रेल लाईन नही बनने से 2024 मे होने वाले सासद चुनाव मे केन्द्रीय मंत्री पंकज चौधरी के लिये विपक्ष ने मुदा खोज कर रखी है । जनता पूछ रही है मंत्री जी 2023 मे तो रेल लाईन बिछा दे ।

महराजगंज जनपद का सृजन हुए 33 साल गुजर गए, लेकिन जिला मुख्यालय रेल मार्ग से नहीं जुड़ सका इसके लिए कई बार जनप्रतिनिधियों ने प्रयास किया, लेकिन सार्थक परिणाम नहीं निकला। जिले के घुघली, सिसवां नौतनवा, फरेंदा कस्बे तक तो रेल दौड़ रही है, लेकिन मुख्यालय तक रेल की पटरियां नहीं बिछ सकी हैं।
महराजगंज 2 अक्तूबर 1989 को जिला बना था। रेल मार्ग से जिला मुख्यालय को जोड़ने की मंशा अधूरी रह गई। वर्ष 2012-13 के रेल बजट में घुघली-फरेंदा रेल खंड को मंजूरी मिली थी। उस समय 10 लाख की टोकन मनी भी परियोजना के लिए आवंटित हुई थी। इसके बाद रेल प्रशासन ने घुघली से महराजगंज तक दो बार सर्वे कराया। सर्वे में स्टेशन बनाने के लिए जमीन का भी चयन हुआ, लेकिन नतीजा शून्य रहा। रेल मार्ग से जोड़ने की योजना हवा हवाई साबित हुई।

प्रस्ताव में बताया गया था कि आनंदनगर घुघली वाया महराजगंज प्रस्तावित रेल लाइन की दूरी 50 किमी की है। पांच रेलवे स्टेशन बनाने की योजना थी। घुघली रेलवे स्टेशन को जंक्शन बनाने का प्रस्ताव था। चौतरवा, पकड़ी नौनिया, महराजगंज, शिकारपुर व हरपुर में नए रेलवे स्टेशन बनाने की व्यवस्था के साथ ही घुघली-आनंदनगर रेल खंड पर 46 पुल बनाने के लिए रूप रेखा बनी थी। जैसे-जैसे समय बीतते गया सब कुछ फाइलों में ही सिमट कर रह गया।

जिला मुख्यालय तक रेल की पटरी बिछने का सपना पूरा नहीं हो सका है। प्रत्येक चुनाव में नेता वादा करते हैं, लेकिन वक्त के साथ भूल जाते हैं।

– डॉ. शांति शरण मिश्रा, मीडिया प्रभारी, सिटीजन फोरम

महराजगंज शहर का विकास बेहतर ढंग से नहीं हो सका है। परिवहन के नाम पर जिला मुख्यालय पर सिर्फ रोडवेज सेवा है। ट्रेन सेवा शुरू नहीं होना दुख की बात है।

  • रंजन कुमार व्यपारी नेता महराजगंज केन्द्रीय मंत्री पंकज चौधरी जी इस समय आप सरकार मे है आप चाहे तो महराजगंज मे भी रेल लाईन विछ सकता आप से माग है 23 मे चालू करा दे । चन्दन श्रीवास्तव व्यपारी नेता महराजगंज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *